0

आदिवासी क्षेत्रों में खुलने वाले एकलव्य स्कूलों की ये होगी खासियत !

भारत के वित्तमंत्री अरुण जेटली ने साल 2018 के बजट सत्र में शिक्षा को लेकर कई अहम फैसले सुनाए जिनमें से आदिवासी क्षेत्रों में ‘एकलव्य स्कूल’ खोलने की योजना भी शामिल हैं। एकलव्य के...

0

1930 से 1960 तक के मीणा संघर्ष पर एक नज़र

1930 से 1960 तक मीणा संघर्ष पर एक नजर ग्रुप में मैंने एक पोस्ट पढ़ी की “मीणा समाज में अब तक महापुरुष किसको कहा जा सकता है ?” तो लोग बताने लगे कि फला...

0

संघर्ष की जीती जागती मिशाल-किरोड़ी लाल

संघर्ष की जीती जागती मिशाल-किरोड़ी लाल छात्र राजनीति से लेकर एक बड़े कद्दावर नेता बनने तक का सफर अपने आप मे अनूठा हूं!जननायक बनने का सफर आसान भी नही रहा!सफलता से ज्यादा असफलताओ स...

0

दिल्ली में मनीष मीणा को मिली NSUI के मीडिया प्रभार की अहम जिम्मेदारी

मनीष मीना को जेएनयू-एनएसयूआई, दिल्ली प्रेदेश उपाध्यक्ष के साथ ही राष्ट्रीय अध्यक्ष फ़िरोज़ खान जी ने मनीष मीना को सोपा सोशल मीडिया को-ऑर्डिनेटर का कार्यभार। अब वे दिल्ली में NSUI के मीडिया प्रभार को...

0

बड़े इंतजार के बाद रेलवे में ड्राइवर और टेक्नीशियन के 26502 पदों पर होगी भर्ती, जल्दी भरे फॉर्म

रेलवे भर्ती 2018 – भारतीय रेलवे विभाग ने रेलवे सहायक लोको पायलट और टेक्नीशियन भर्ती 2018 के माध्यम से 26502 नौकरियों को भरने के लिए आधिकारिक अधिसूचना की घोषणा की है। आधिकारिक सूचना आधिकारिक...

0

यहीं हाल रहा तो तालिया बजाता रह जायेगा मीणा समाज

तो_तालिया_बजाता_रह_जाएगा_मीणा_समाज उपचुनावो ने राजस्थान की राजनीति में बवंडर पैदा कर दिया हैं, इक ओर जहाँ मृत प्रायः कांग्रेस पार्टी को संजीवनी मिली है तो दूसरी ओर बीजेपी के राजस्थानी नेतृत्व पर सवाल खड़े हो...

1

बामनबास की शान – दिल्ली वालों की ये पुरानी हवेली

भाया, कर ले सैर गाँव की गाँव बामनवास का आधुनिक इतिहास जिस व्यक्तित्व के साथ आरम्भ होता है, यह किस्सा उसी शख्सियत से ताल्लुक रखता है. बामनवास में ‘दिल्लीवालों की हवेली’ प्रसिद्ध है. यह...

राज्यसभा टीवी में नहीं रही देश के आदिवासियों की आवाज, पद का दिया त्याग ! 0

राज्यसभा टीवी में नहीं रही देश के आदिवासियों की आवाज, पद का दिया त्याग !

नए उपराष्ट्रपति के आसीन होने के बाद से ही अटकलें लगाई जा रही थी कि उनके अधीन आने वाले राज्यसभा टीवी में भी अब बड़ा फेरबदल देखने को मिलेगा। उपराष्ट्रपति चुनाव से पहले ही...

0

क्या हुक्का पाणी बंद करने की व्यवस्था ही सही थी ?

मेरे विचार से गावों मे प्राचीनकाल में पंचो द्वारा हुक्का पाणी बंद करना वर्तमान कानूनी व्यवस्था से अधिक कारगर व्यवस्था थी। किसी गंभीर अपराध जैसे गो हत्या में अपराधी का हुक्का पाणी बंद करने...

किस किस का दर्द लिखूँ मैं.. रीपब्लिक डे ! 0

किस किस का दर्द लिखूँ मैं.. रीपब्लिक डे !

हर साल 26 जनवरी आते ही एक अजब सी खुशी सा अहसास होता है । हर तरफ राष्ट्रीय गीत बजते रहते हैं । स्कूलों में नन्हें-नन्हें बच्चे रंग-बिरंगे प्रोग्राम पेश करते हैं । हर...