0

बच्चें देश का भविष्य होते हैं, लेकिन भुखें बच्चें और बदहाल आंगनबाड़ियों के बलबूते कैसे बनेगा सशक्त भारत

आंगनबाडी (समेकित बाल विकास सेवायें ) (Integrated Child Development Services) कितना सफल कितना असफल ।  हमारे देश को आजाद हुये लगभग 70 वर्ष हो गये । अंग्रेजों के गुलामी से  तो यह देश आजाद...

0

पाँचना बाँध जीवन रेखा

पाँचना बाँध जीवन रेखा । पाँचना बाँध के बारे में कई बार लिखा गया है । Raghuveer Prasad Meena ji Dr Bhoor Singh ji , Chhagan Lal Meena ji एवं मेरे द्वारा कई बार...

0

मीणा लोक-साहित्य की लोकप्रिय विधा-मीणावाटी गीत.. सबसे निराले हैं ये आदिवासी गीत

मीना लोक साहित्य—- वृहद विस्तार क्षेत्र गायन की स्वतंत्रता, लिंग-भेद का अभाव, प्राचीनता, सर्वत्र प्रचलन, सार्वकालिक,प्रेमाभिव्यंजना के आधिक्य एवम् मीणाओं के पर्याय आदि गुणों एवम् विशिष्टता के कारण आज मीणावाटी गीत लोकप्रियता की दृष्टि...

0

साजिशन MP के मीणायो से छीने गये आरक्षण को लेकर भोपाल में जुटेंगे 5 लाख लोग, शिवराज चौहान सहित कई बड़े नेता करेंगे शिरकत

भेल दशहरा मैदान में 18 फरवरी को होगा समाज का महासम्मेलन  मध्यप्रदेश मीना समाज सेवा संगठन के बैनर तले आगामी 18 फरवरी 2018 को राजधानी में विशाल महा सम्मेलन आयोजित किया जाएगा। इस आयोजन...

0

IAS या IPS इंसान ही बनते हैं और आप भी बन सकते हो, बस जरूरत हैं हिम्मत, लगन और हौसलों की

यूपीएससी से IAS या IPS इंसान ही बनते हैं. कई सवाल जो हम अप्रेन्टिस को असमंजस में डालते आये है, कई नये अप्रेन्टिस दोस्तों ने ब्लॉग पर पूछा कि आईएएस बनने के लिए इंसान...

0

फूट्या करम फकीर का भरी चिलम ढुल जाए- बचपन के किस्से, विजय सिंह जी के साथ

गांव मे एक घर फकीरों का था । गफूर चार भाईयों में सबसे छोटा था । तीन बडे भाईयो की शादी हो गई थी परन्तु गफूर का घर अभी तक नहीं बसा था ।...

0

All India Press परिषद का राष्ट्रीय प्रतिभा सम्मान समारोह का शानदार आयोजन हुआ बसवा में

आल इंडिया प्रेस परिषद के तत्वावधान में बसवा, ज़िला दौसा में राष्ट्रीय प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। पत्रकारों के इस महाकुम्भ में देश के विभिन्न राज्यों के हज़ारों पत्रकार शामिल हुये।   इसमें...

0

YOUth decide “the climate,the vote,the future..

मुल्क में युवाओं की आबादी सर्वाधिक है.. हमारे समाज और इस ग्रूप में भी युवाओं की संख्या सबसे ज़्यादा है।सबसे ज़्यादा का मतलब मैक्सिमम…।किसी भी समाज और देश के लिये युवाओं का हुनर और...

0

पूर्वी राजस्थान में सूखे के हालात

–पूर्वी राजस्थान में अकाल ,सूखे के हालात । — एक जमाने में जहां हरियाली थी, भारी बरसात होती थी। -धान और गन्ने के खेत लहलहाते थे, एक -एक बूँद के लिए तरस रहे हैं.....

0

प्रेस की आज़ादी जनजातियों और दलितों के ख़िलाफ़ ही क्यूँ..?

प्रेस की आज़ादी जनजातियों और दलितों के ख़िलाफ़ ही क्यूँ……? हुकुमतों,भ्रष्टाचारियों,कालाबाज़ारियों,सफ़ेदपोशों, बलात्कारियों,घोटालेबाज़ों के ख़िलाफ़ ये आज़ादी ग़ुलामी में क्यूँ बदल जाती है। अख़बार आपका है,ख़बरदार आपका है,रसूखदार आपके है, तथाकथित ठेकेदार आपके है….और विचार...