आ मेरे आगोश में तुझे सब कुछ सिखा दूं, तेरी टांट मे जितने बाल हैं वो भी झडा दूं – शायर रामजीलाल जुल्मी

मेरे बचपन के संस्मरण  बात उन दिनों की है जब हम हायर सैकेन्ड्री में तहसीली कस्बे में पढते थे । मेरा एक मित्र था रामजीलाल । अपनी धुन का पक्का…

Continue Reading

फूट्या करम फकीर का भरी चिलम ढुल जाए- बचपन के किस्से, विजय सिंह जी के साथ

गांव मे एक घर फकीरों का था । गफूर चार भाईयों में सबसे छोटा था । तीन बडे भाईयो की शादी हो गई थी परन्तु गफूर का घर अभी तक…

Continue Reading