Category: देश

आम लोगों के मन में पढ़े लिखे सरकारी मास्टरों की जगह, प्राइवेट टीचरों की कद्र ज्यादा क्यों

सरकारी_अध्यापकों_के_प्रति_लोगों का नज़रिया मैंने व्यक्तिगत तौर पर ऐसे बहुत से सरकारी स्कूल देखे हैं जहाँ शिक्षक मन से पढ़ाते हैं। साथी शिक्षकों की तरफ से मिलने वाले उलाहने को दरकिनार करके लगन से अपना...

0

जाग रहा था मन सो रहा था तन(किसान की वेदना)

जाग रहा था ख्यालो में सो रहा था तन, गला रुन्द रहा था रो रहा था मन…… जब निकलेगी किरणे तो देखेंगे अपने सपनो को, पेट के लिए हमने मिट्टी में मिला दिया है...

किस किस का दर्द लिखूँ मैं.. रीपब्लिक डे ! 0

किस किस का दर्द लिखूँ मैं.. रीपब्लिक डे !

हर साल 26 जनवरी आते ही एक अजब सी खुशी सा अहसास होता है । हर तरफ राष्ट्रीय गीत बजते रहते हैं । स्कूलों में नन्हें-नन्हें बच्चे रंग-बिरंगे प्रोग्राम पेश करते हैं । हर...

0

SC ST में क्रिमीलेयर की आवाज़ – वक्त की जरूरत या फिर संविधान के साथ खिलवाड़

दोस्तों, आज मैं सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश को पढ़कर बेहद आहत हूँ, इस इश्यू को मध्य नजर रखकर ही कुछ कटू बोल, बोल रहा हूँ, लेकिन हम सभी के हित में अग्रिम सच...

0

पाकिस्तान : एक अमानवीय चेहरा

पाकिस्तान की नापाक हरकतों से पूरी दुनिया वाकिफ है। पाकिस्तान हमेशा से ही आतंकवादि गतिविधियों का केंद्र रहा है। ऐसे अनेक मौके आये जब पाकिस्तान का क्रूर चेहरा सबके सामने आये। हाल ही में...

0

एक शहीद की आत्मा

जब 1991 में मेरी शादी कैप्टन शफीक़ गौरी से हुई तो मेरी उम्र 19 साल थी. उनके अक्सर तबादले होते रहते थे और वो मुझसे लंबे समय के लिए दूर भी रहते थे. शुरुआत...