Category: आदिवासी

0

आदिवासी तेरा शोषण

~~~~~~~आदिवासी तेरा शोषण~~~~~~ जिस आरक्षण के वृक्ष तले तुमने छाया और फल खाया है उसकी जड़ो मे दुश्मन ने तेजाब आज गिरवाया है! जिसके पैरो को तुम पुजो वह सिर पर अब चढ आया...

0

आदिवासी क्षेत्रों में खुलने वाले एकलव्य स्कूलों की ये होगी खासियत !

भारत के वित्तमंत्री अरुण जेटली ने साल 2018 के बजट सत्र में शिक्षा को लेकर कई अहम फैसले सुनाए जिनमें से आदिवासी क्षेत्रों में ‘एकलव्य स्कूल’ खोलने की योजना भी शामिल हैं। एकलव्य के...

राज्यसभा टीवी में नहीं रही देश के आदिवासियों की आवाज, पद का दिया त्याग ! 0

राज्यसभा टीवी में नहीं रही देश के आदिवासियों की आवाज, पद का दिया त्याग !

नए उपराष्ट्रपति के आसीन होने के बाद से ही अटकलें लगाई जा रही थी कि उनके अधीन आने वाले राज्यसभा टीवी में भी अब बड़ा फेरबदल देखने को मिलेगा। उपराष्ट्रपति चुनाव से पहले ही...

Reject The Caste System Before Questioning Caste Based Reservation. 0

Reject The Caste System Before Questioning Caste Based Reservation.

First come with justified solutions than talk about cancellation of caste based reservations please, otherwise keep your mouth shut. This is really unfortunate that the people who always talk about the cancellation of caste...

0

पाँचवी अनुसूची की सख़्ती से अनुपालना करवाने के लिए सभी आदिवासियों को एकजुट होना ही पड़ेगा

सेवा जोहार  भाइयो आज आदिवासी समुदाय  का अस्तित्व जाति,संगठन व धर्म में बंट गया है। हमें अब एकजुट होने की आवश्यकता है। आज हमारे समुदाय का अस्तित्व खतरे में है।चारो और समस्याए ही समस्याए...

0

जयस के प्रयास ला रहे हैं रंग, धीरे धीरे भारत भर के आदिवासी एकजुट होकर समझ रहे हैं अपने अधिकारों को

आज हमारे आदिवासी  समाज के युवा अपने संविधानिक अधिकार की बात कर रहे है तो इन्हें अपने युवाओं पर नाज करना चाहिये था लेकिन आज अपने ही आदिवासी समाज के लोग अज्ञानतावश अन्य गैर...

0

प्रेस की आज़ादी जनजातियों और दलितों के ख़िलाफ़ ही क्यूँ..?

प्रेस की आज़ादी जनजातियों और दलितों के ख़िलाफ़ ही क्यूँ……? हुकुमतों,भ्रष्टाचारियों,कालाबाज़ारियों,सफ़ेदपोशों, बलात्कारियों,घोटालेबाज़ों के ख़िलाफ़ ये आज़ादी ग़ुलामी में क्यूँ बदल जाती है। अख़बार आपका है,ख़बरदार आपका है,रसूखदार आपके है, तथाकथित ठेकेदार आपके है….और विचार...

0

आदिवासी ‘जयपाल सिंह मुंडा’

जयपाल सिंह मुण्डा (3 जनवरी,1903) ..?? ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ जब भी आरक्षण का जिक्र होता है, हम भीमराव अम्बेडकर का ही जिक्र करके ही ठहर जाते है, जिन्होने दलित समाज के उत्थान के लिए आरक्षण की...

0

भारत की पहली शिक्षिका महिला

सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले (3 जनवरी 1831 – 10 मार्च 1897) भारत की प्रथम महिला शिक्षिका, समाज सुधारिका एवं मराठी कवयित्री थीं। उन्होंने अपने पति ज्योतिराव गोविंदराव फुले के साथ मिलकर स्त्रियों के अधिकारों एवं...

0

भारत के संविधान में ‘पांचवी अनुसूची’ अनुच्छेद 244 (1) अनुसूचित क्षेत्रों और अनुसूचित जनजातियों के प्रशासन और नियंत्रण

अनुसूचित क्षेत्र के ‘आदिवासी समाज’ शिक्षित होने के बाद भी अपने अधिकारों के प्रति अनिभिज्ञ है ! ‘Tribal Development’ तथा ‘Security ‘के लिए ‘भारत के संविधान में दर्जनों प्रावधानों के बावजूद इनका अपेक्षित लाभ...