पुआ खर्च के

  • #शीर्षक पुआ खर्च के
  • #यह लेख लिखते हुए शर्म महसूस हो रही है। कई बार ऐसा लगता है, #अज्ञानता वरदान है। लेकिन जाने अनजाने में कई चीज़ें ज्ञान के प्रकाश में आ जाती हैं और पीड़ा देती हैं। ऐसी ही एक पीड़ा देने वाली कुरीति है -#मृत्युभोज। मानव विकास के रास्ते में यह गंदगी कैसे पनप गयी, समझ से परे है। जानवर भी अपने किसी साथी के मरने पर मिलकर वियोग प्रकट करते हैं, परन्तु यहाँ किसी व्यक्ति के मरने पर उसके साथी, सगे-सम्बन्धी भोज करते हैं। मिठाईयाँ खाते हैं। किसी घर में खुशी का मौका हो, तो समझ आता है कि मिठाई बनाकर, खिलाकर खुशी का इजहार करें, खुशी जाहिर करें। लेकिन किसी व्यक्ति के मरने पर मिठाईयाँ परोसी जायें, खाई जायें, इस शर्मनाक परम्परा को मानवता की किस श्रेणी में रखें।
  • #दोस्तों मीणा समाज में तो क्या हर समाज में आज भी ये परंपरा जारी है… कोई मर जाता है तो उसके खर्च में खीर पुआ सब्जी आदि बनाई जाती है… और आजकल तो पचमेल भी करवा लाग्या। #मृत्युभोज एक कानूनी अपराध है फिर भी नियमों का उल्लंघन किया जा रहा है।
  • #दादी धापुडी का खर्च में हम भी जिमने गए तो लम्बी पंगत….. देखने को मिली बच्चे दोनों पत्तल लेकर आपस में लड़ रिया एक बोल्यौ में तो दोना दुंगो एक बोल्यौ मैं पत्तल दूंगो आपस में लड़ रिया #पर बच्चो में यही खाश बात होती है कि वो किसी न किसी प्रकार समझौता कर ही लेते है……कुछ देर बाद हमें पत्तल ओर दूना मिला…. में हमेशा बच्चो में ही बैठता हूं मेरे पास भी कुछ तीन चार बच्चे बैठे हुए थे मैं भी उन्हीं के बीच में था इतने में सब्जी देने वाला आ गया…सब्जी केरी कोड्डे की थी….तो कछु पास में बैठे बालकों में से फूल्या बोल्यो ओय लालू मोकु कोड्डो मत देय केरी केरी दीजो नी तो तू जीमेगो जब में तोकु नी देयुंगो केरी लालू ने फूल्या की बात मान ली
  • #कुछ देर बाद पुआ ओर खीर अब मेरे पास मैं बैठा भोला बोल्यौ ओय लालू देख ल खीर म मोकू किशमिश किशमिश दिजो नी देख लियो फिर तोकू….आखिर समझौता हो जाता है और पत्तल भर जाती है जो पुराने जमाने में मिलती थी लोग हाथो से बनाते जिससे लोगों को रोजगार भी मिलता था और सस्ती भी आती थी।
  • #दोस्तो सामने बैठा एक बड़ा आदमी अपनी पत्तल तोड़ता है एक पुआ का टूक लेकर खीर ओर सब्जी में डुबोकर पत्तल के एक कोने में रख देता है। मैने सोचा मुझे भी ऐसा करना चाहिए मैने भी किया….#पास में बैठया फूल्या और भोलू तो सीधा ही मीटर खीचबा लाग्या।
  • #दोस्तों मेरा इस कहानी का उद्देश्य यही है कि आज मृत्युभोज को बंद किया जाना चाहिए जो कि एक कानूनी अपराध है परंतु हम लोगों के द्वारा इसका उल्लंघन किया जा रहा है।
  • #धन्यवाद @pawan 57
Facebook Comments
Pawan Meena

Pawan Meena

दुनिया में दो चीज सबसे अधिक ताकतवर है..... पहली कलम और दूसरी तलवार

You may also like...

Leave a Reply

%d bloggers like this: