Monthly Archive: December 2017

0

शिक्षा का महत्व

सभी दोस्तों से मेरा विनम्र निवेदन है कि जब कभी आप अपने गांव  जाएं और आप फ्री हैं जैसे कि आप सरकारी टीचर या प्राइवेट टीचर या किसी और क्षेत्र में जॉब करते हैं...

12 वर्षों से नहरों का कंठ सूखा, 36 गांवों को पानी का इंतजार 0

12 वर्षों से नहरों का कंठ सूखा, 36 गांवों को पानी का इंतजार

इस परियोजना में सवाईमाधोपुर-करौली जिले के उपखंड सवाईमाधोपुर, मलारना चौड़, लालसोट, करौली, सपोटरा, हिंडौन, नादौती श्रीमहावीरजी सहित करौली के 20 सवाईमाधोपुर के 16 गांव शामिल हैं  करौली-सवाईमाधोपुरजिलों के 36 गांवों के 11 हजार 960...

0

राजस्थान के सबसे बड़े जनाधार वाले नेता हैं किरोड़ीलाल, और जब जानोंगे उनकी खासियत, तो हो जाओगे उनके और भी फ़ैन

जब कभी भी राजस्थान की बात चलती है तो राजस्थान की राजनीति में एक ऐसा नाम उभर  कर आता है, जिसके सर पर ना ताज है, ना ही वो  कहीं का राजा है, लेकिन...

0

कांग्रेस का नेतृत्वविहीन नेतृत्व

कांग्रेस का नेतृत्वविहीन नेतृत्व हमारे कुछ राजनीतिक विचारक जिसके नेतृत्व की तारीफ करते नही थकता उसका नेतृत्व इतना कमजोर है कि अपने  विधायक तो विधायक उपमुख्यमंत्री तक को नही संघटित नही रख पाए अब...

0

मोरजाल/मोरपाल/मोर/मोरडा गोत्र मीणा माइक्रो हिस्ट्री

मीणा समुदाय के हजारो गोत्रो में मोरजाल/मोरपाल/मोर/मोरडा भी प्रमुख गोत्र है यह हाड़ोती. करोली, दौसा, जयपुर, टोंक, अजमेर क्षेत्र में पाया जाता है |  मोरजाल गोत्र का एक गाँव मांगली तह० हिंडोन जिला करोली...

0

कभी कभी अपनों को ख़ुशी देने के लिए खुद की आंखे बंद कर लेना भी जरूरी हो जाता हैं 

एक आदमी ने एक बहुत ही खूबसूरत लड़की से शादी की. शादी के बाद दोनो की ज़िन्दगी बहुत प्यार से गुजर रही थी. वह उसे बहुत चाहता था और उसकी खूबसूरती की हमेशा तारीफ़...

0

भारत के संविधान में ‘पांचवी अनुसूची’ अनुच्छेद 244 (1) अनुसूचित क्षेत्रों और अनुसूचित जनजातियों के प्रशासन और नियंत्रण

अनुसूचित क्षेत्र के ‘आदिवासी समाज’ शिक्षित होने के बाद भी अपने अधिकारों के प्रति अनिभिज्ञ है ! ‘Tribal Development’ तथा ‘Security ‘के लिए ‘भारत के संविधान में दर्जनों प्रावधानों के बावजूद इनका अपेक्षित लाभ...

0

गरीब की झोपड़ी – 1000 रुपये दे दिये तो नार्मल, नहीं तो ऑपरेशन पक्का

#कोई #कम #नही है  मेघराज की कलम से प्रसव पीडा से तड़पती महिला को सरकारी अस्पताल मे ले गये । 1000 रूपये दे दिये तो नोरमल, वरना आपरेशन ।  kcc लेना है एक बार...

0

चालाक और अपना फायदा देखने वाले व्यापारियों को  आधुनिक काल का  ‘ काला अंग्रेज’  यानी ‘ कॉरपोरट ‘  कहते है । 

एक दिन मैं एक मित्र के घर बैठा हुआ था । चाय की चुस्कियों के साथ हमारी कई विषयों पर बात हो रही थी ।  हमारा विषय अक्सर जल जंगल और जमीन से ही...

0

देश में एक जगह ऐसी भी जहां नई साल की शुरुआत होती है ‘आंसूओं’ से

#1_जनवरी1948 #आदिवासीयो का #कालादिन।🏹●#BLACK_DAY_OF_TRIBAL●🏹 #जोहारजयआदिवासी_उलगुलान।🍀🎯🌻🌱 1 जनवरी 1948 को खरसावां(झारखण्ड) हाट में 50 हजार से अधिक आदिवासियों की भीड़ पर ओड़िशा मिलिटरी पुलिस ने अंधाधुंध फायरिंग की थी, जिसमें कई आदिवासी मारे गये थे।...