Monthly Archive: February 2018

0

बंजर होती धरती और मुरझाता किसान का चेहरा

बंजर होती धरती और मुरझाता किसान का चेहरा क्या आपने कभी सोचा है..?? कि धरती से पानी खत्म हो गया तो क्या होगा..?? लेकिन कुछ ही सालों बाद ऐसा हो जाए तो ताज्जुब नहीं...

0

बनास बना खूनी दरिया हथडोली सरपंच की भूमाफिया के चलते हुए हत्या

#क्या_हत्या_सिर्फ_न्यूज़_बनकर_रह_जायेगी..?? आप सभी को ज्ञात है कि हथडोली गांव के सरपंच रघुवीर मीणा की हत्या कर दी गयी है! बजरी खनन माफिया इतना कुछ कर सकता है और प्रसाशन हाथ पर हाथ धरे बैठे...

0

कहीं दूसरा कन्हैया कुमार ना बन जाये मनीष मीणा, इसलिए डरी हुई पूरी केंद्र सरकार

एक चिंगारी और एक विचार, जो कभी खत्म नही हो सकता। आप जब प्रग्रतिशील भाषण देकर किसी सभा या सेमिनार मे आ जाते हो, लेकिन जब आपकी जरूरत आपके लोगो को हो उस वक्त...

0

जातीय जनगणना

2011 में जब जनगणना हुई थी तब जातीय आंकड़े भी जुटाए गये थे। लेकिन 4 साल बाद भी मोदी सरकार इनको उजागर नहीं कर रही है। इसका मकसद सूचनाओ को एकत्रित करके, सार्वजानिक करना...

0

ईमानदारी से नोकरी के साथ अपना एवम समाज का नाम रोशन किया अलवर जिले के लक्ष्मणगढ़ तहसील के गढ़ी के पास एक छोटे से गांव मंजवाड के होती लाल मीणा ने,

मीना कही भी हो अपनी ईमानदारी और कर्तव्य को इस कदर निभाते है कि उनके वरिष्ठ अधिकारी भी उनका नाम लेते नही थकते, एक ऐसा ही माजरा आपको इस वीडियो के देखने मे मिलेगा...

0

खलनायक तो बहुत है जननायक बस एक

“खलनायक तो बहुत है, जननायक बस एक उनका राजस्थान में करें हम मिलकर अभिषेक ! सत्य अहिंसा क्रांति का ,जो देता सन्देश वही किरोड़ी लाल है,जो सबके मन में शेष । सुनता जनता की...

0

जाग रहा था मन सो रहा था तन(किसान की वेदना)

जाग रहा था ख्यालो में सो रहा था तन, गला रुन्द रहा था रो रहा था मन…… जब निकलेगी किरणे तो देखेंगे अपने सपनो को, पेट के लिए हमने मिट्टी में मिला दिया है...

0

आदिवासी तेरा शोषण

~~~~~~~आदिवासी तेरा शोषण~~~~~~ जिस आरक्षण के वृक्ष तले तुमने छाया और फल खाया है उसकी जड़ो मे दुश्मन ने तेजाब आज गिरवाया है! जिसके पैरो को तुम पुजो वह सिर पर अब चढ आया...

0

मैं छोटे छोटे सपने देखता हूँ, बड़े सपने देखकर अपनी आँखें क्यो बोझिल करू..

मुझे छोटे-छोटे सपनो को चुनने की आदत है इसलिए मैंने बड़े सपने देखकर आँख को कभी बोझ नही दिया।मेरे बड़े लोग आदर्श भी नही रहे है।महात्मा गाँधी,महात्मा बुद्ध,अकबर,राणा प्रताप,नेपालियन ,हिटलर न जाने इतिहास के...

0

आदिवासी क्षेत्रों में खुलने वाले एकलव्य स्कूलों की ये होगी खासियत !

भारत के वित्तमंत्री अरुण जेटली ने साल 2018 के बजट सत्र में शिक्षा को लेकर कई अहम फैसले सुनाए जिनमें से आदिवासी क्षेत्रों में ‘एकलव्य स्कूल’ खोलने की योजना भी शामिल हैं। एकलव्य के...