धनोरा से डुमेडा़-अलवर तक का पहुंचा सोच बदलो गाँव बदलो मिशन

धनोरा (धौलपुर) गाँव से डुमेडा़ (अलवर ) तक का सफर सोच बदलो गाँव बदलो मिशन का……

डॉ. सत्यपाल भाईसाहब IRS व प्रो. प्रियानन्द अगले जी के मिशन सोच बदलो गाँव बदलो ने धौलपुर के धनोरा गाँव को स्मार्ट विलेज के रूप में परिवर्तित किया और अपने गाँव देश के प्रधानमंत्री के हाथों से सम्मानित करके सोच बदलो गांव बदलो की मुहिम को पूरे देश में फैला दिया है और इसका पूरा पूरा श्रेय धौलपुर क्षेत्र के आईआरएस अधिकारी डॉ सतपाल मीणा जी को जाता है

इसी कड़ी में नैहडा़ में भी समरा गाँव में SBGBT के तहत अनेक कार्य किये गए लेकिन सम्पूर्ण नैहडा में सोच बदलो गाँव बदलो मिशन को पहचान अंगारी गाँव मे सोच बदलो गाँव बदलो कोर टीम की 26 वे चरण की यात्रा के बाद हुई |

अंगारी गाँव ने सोच बदलो गाँव बदलो मिशन के तहत अम्बेडकर लाइब्रेरी खोलने के साथ ही पौधारोपण करना, अतिक्रमण हटवाना, स्ट्रीट लाइट लगवाना आदि कार्य किये, इससे प्रभावित होकर SBGBT, बाछड़ी ने भी 2 oct. को सार्वजनिक पुस्तकालय का उद्धाटन किया , कल SBGBT,डुमेंडा़ ने गाँव मे JCB से अतिक्रमण हटाने के साथ ही रोड़ पर मोहरम मिट्टी डाली गयी |

“सोच बदलो गाँव बदलो एक मिशन नहीं एक विचारधारा है ”
जय SBGBT। जय नैहडा़ |

क्या है “सोच बदलो गाँव” बदलो मिशन

सोच बदलो गांव बदलो ( SBGBT) न केवल राजस्थान अपितु संपूर्ण भारत ग्रामीण विकास का एक माॅडल उभरकर आभामंडल पर छा गया है॥डाॅ.सत्यपाल मीना भाईसाहब (Joint Commissioner IT) के नेतृत्व में धनौरा(बाडी-धौलपुर) से प्रारंभ यह विकास का कारवां आगे बढ़ रहा है॥
Pay back to Society का इससे बेहतरीन उदाहरण कहीं देखने नहीं मिलेगा कि एक अधिकारी गांव विकास की नई अवधारणा लिख चुका है॥धनौरा गांव सीमेंट कंक्रीट की बेहतरीन गुणवत्ता पूर्ण चौड़ाई युक्त सड़के ,सीवरेज लाइन ,सामुदायिक भवन ,ड्रेनेज सिस्टम, ट्रीटमेंट प्लान्ट ,जल संरक्षण कार्य ,शिक्षा पाओ ज्ञान बढ़ाओ ,कोचिंग संस्थान, प्रतिभाशाली छात्र – छात्राओं के प्रोत्साहन हेतु प्रतियोगिता सम्मान समारोह , वृक्षारोपण कार्यक्रम ॥
मुझे भी विकास गाथा को गांव में जाकर देखने समझने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है॥हम सभी को आदर्श गांव धनौरा कम से कम एक बार जाकर देखना समझना चाहिये सभी को इससे प्रेरणा लेनी चाहिये इतनी नहीं तो कुछ तो समाज और गांव की तरक्की एवं विकास में भागीदारी निभानी चाहिये ॥

Facebook Comments