पिलोदा, खंडीप, परीता सहित कई गाँवो में गूंजा सोच बदलो गाँव बदलो का नारा

गाँव में सुधार हेतु पहल।

कल दिनांक 8 नवंबर 2018 को हमारे गांव पीलोदा में गांव के युवाओं खासकर जो सरकारी सेवा में कार्यरत है, विद्यार्थी और गांव में रहने वाले जागरूक नागरिकों ने गांव को बेहतर बनाने के लिए एक मीटिंग का आयोजन किया। मीटिंग में चर्चा के दौरान श्री सत्यपाल सिंह मीना, आईआरएस द्वारा उनके गांव धनोरा में किए गए उत्कृष्ट कार्य के बारे में भी चर्चा की गई और सोच बदलो गांव बदलो (SBGB) टीम की प्रशंसा की गई। इसी तर्ज पर पास के गांव परीता, खण्डीप व मीना बड़ौदा में भी बहुत कुछ सुधारात्मक कार्यवाही की जा रही है। इन्हीं को देखते हुए अब और गांवों में भी प्रेरणा मिल रही है कि गांव के युवा और जागरूक नागरिक यदि चाहें तो गांव की दशा को सुधारने में बहुत कुछ कर सकते हैं।

मीटिंग के पश्चात काफी संख्या में सभी लोग सरकारी अस्पताल एवं स्कूल आकस्मिक विजिट पर गए और वहां की कंडीशन देखी। सरकारी अस्पताल व स्कूल दोनों की दशा बहुत ही दयनीय है। उनकी मेंटेनेंस ठीक प्रकार से नहीं हो रही है। हॉस्पिटल में डॉक्टर और स्टाफ समय पर आते जाते नहीं है। हॉस्पिटल का रखरखाव बहुत ही निम्न स्तर का पाया गया। इसी प्रकार स्कूल में भी कमरों की दशा असुरक्षित लग रही थी तथा जो मैदान है उसमें जंगली बबूल के पेड़ हो गए हुए हैं, कंस्ट्रक्शन मैटेरियल काफी बड़े क्षेत्र में पड़ा हुआ है। पता लगा कि 12वीं तक के सरकारी स्कूल में 132 बच्चों का एडमिशन है जिनमें लगभग 70 बच्चे ही पड़ते हैं जबकि इतने बच्चे तो 2 क्लासेज में हो सकते हैं। परंतु पेरेंट्स को यह लगता है कि सरकारी स्कूल में पढ़ाई नहीं होती है इसी कारण वे ज्यादा फीस देकर भी उन्हें प्राइवेट स्कूल में पढ़ाते हैं जबकि उनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होती है।

गांव में Community Health Centre (सीएचसी) स्वीकृत है परंतु बताया गया कि उसके लिए भूमि चिन्हित नहीं हो पाने के कारण अभी तक निर्माण नहीं किया जा सका है। एक सरकारी भूमि जो अस्पताल बनाने के लिए उपयुक्त हो सकती है उसकी साइट विजिट की गई और ऐसा लगा कि यह साइट आसानी से उपलब्ध कराई जा सकती है परंतु कुछ लोगों ने कहा कि रेलवे स्टेशन की ओर भी जगह मिल सकती है तो सभी को लगा कि रेलवे स्टेशन की ओर यदि जगह मिले तो वह जगह भी उपयुक्त होगी क्योंकि वहां से रेलवे स्टेशन, वजीरपुर और हाईवे सभी काफी नजदीक पड़ेंगे। आने वाले समय जल्दी ही भूमि के बारे में विचार-विमर्श करके सीएससी निर्माण हेतु जगह निर्धारित करने के लिए प्रयास किया जायेगा।

गांव में पुराने प्राईमरी स्कूल की दशा भी बहुत खराब है उसके पास कन्याओं का एक दसवीं तक का स्कूल है उसके रास्ते में जंगली बबूल उगे हुए हैं, दोनों तरफ घूड़े पड़े हैं और एक नल के लीकेज होने के कारण पूरे ढलान वाले रास्ते पर फिसलन हो रही है।

सभी लोगों को यह लगा कि गांव में सुधार हेतु गांव के जागरूक लोगों को ध्यान देंने की बहुत जरूरत है। मीटिंग के दौरान यह भी तय किया गया कि प्रत्येक 3 माह में इस प्रकार की मीटिंग की जाए और सभी लोग अपने अपने स्तर पर गांव की जो सुविधाएं हैं सरकार द्वारा संचालित उनकी वर्किंग को मॉनिटर किया जाए।

मुझे लगता है कि जल्दी ही गांव की सरकार द्वारा संचालित सुविधाओं की वर्किंग में सुधार होगा। मैं सभी से यह अनुरोध करता हूं कि हम सभी अपने अपने गांव में सरकारी सुविधाएं के संचालन पर ध्यान दें और उन्हें ठीक करवाने में एक दूसरे की मदद करें, प्राप्त की गई उपलब्धियों को शैयर करें ताकि दूसरे भी प्रोत्साहित हो सके।

खंडीप मे भी गुंजा विकास का नारा

गोवर्धन के दिन पीर बाबा मीटिंग काफ़ी सफल रही इसके लिए सभी भाइयों का बहुत बहुत धन्यवाद । दिनांक 08-11-18 गुरुवार को पीरबाबा के पवित्र प्रांगण पर सम्मानिय साथी श्री गिरिराज मीना जी जिला कोषाधिकारी की अध्यक्षता में हुई व संचालन श्री रामहरि मीना जी प्रोफेसर राजस्थान युनिवर्सिटी के द्वारा किया गया था #सोच बदलो गांव बदलो टीम# की विचारधारा से प्रभावित होकर “एक क़दम विकास की ओर” खंडीप की प्रथम मिटिग सम्पन्न हुए जिसमें गांव के सर्वांगीण विकास को लेकर चर्चा हुई जिसमें- गांव के यातायात, शिक्षा, स्वास्थ्य, किसान, मजदूर,व महिला उत्थान पर चर्चा हुई । तथा गांव में सभी क्लब संस्था व संगठन एक मंच पर संगठित होकर कार्य करें, तथा गांव के सर्वांगीण विकास के लिए सभा में उपस्थित सभी कर्मचारियों व समाजसेवी,युवा साथियों ने पुर्ण सहयोग का आश्वासन दिया।

सभा में उपस्थित हुए उन‌सभी भाईयों को बहुत बहुत आभार

Facebook Comments