करौली के परीता गाँव पहुंची-“सोच बदलो गांव बदलो यात्रा’

SBGBT 28 वां पड़ाव परीता गॉव, करौली [दिनांक 28 अक्टूबर 2018]

गाँवों में सकारात्मक और रचनात्मक बदलाव की मुहिम “सोच बदलो गांव बदलो यात्रा” अपने 28वें पड़ाव के रूप में दिनांक 28/10/2018 को गाँव परीता (करौली) पहुंची। इस जागरूकता सभा का आयोजन गांव के युवाओं और कर्मचारियों के संगठन “सोच बदलो_परिता बदलो” के आग्रह पर किया गया| “सोच बदलो_परिता बदलो” ग्रुप के सदस्यों में अपने गांव के प्रति लगाव और सकारात्मक परिवर्तन लाने की इच्छाशक्ति काबिले तारीफ है|

(1) परीता गाँव करौली से पश्चिम की ओर करीब *15-16 किमी* की दूरी पर अवस्थित लगभग *4000 हजार* की आबादी वाला विशाल और खूबसूरत गाँव है। जिसमें सभी समुदायों और समाजों के लोग बडे ही प्रेम और सद्भाव से रहते हैं। ऐसी समरसता इतने विशाल गावों में कम ही देखने को मिलती है, जो वाकई अनुपम और सराहनीय है। भौगोलिक रूपरेखा और पक्के मकानों को देखकर तो परीता, *गाँव कम कस्बा ज्यादा* लगता है।_

(2) जैसे ही, टीम ने परीता गाँव में प्रवेश किया, गाँव के लोगों ने बैण्ड बाजों के साथ टीम का अभूतपूर्व और जोरदार स्वागत किया। यह पहला अवसर था, जब टीम बैण्ड बाजों के साथ गाँव में होकर कार्यक्रम स्थल तक पहुंची हो। इस अनौखे और अद्भुत सत्कार के लिए SBGBT परीता गाँव की युवा टीम का हार्दिक आभार प्रकट करती है। परंतु भविष्य में किसी मीटिंग में इस प्रकार के कार्यक्रम की पूर्ण रूप से मनाही करती है| सोच बदलो गांव बदलो टीम केवल और केवल जमीनी धरातल पर काम करने और बदलाव लाने के लिए जानी जाती है|

(3) SBGBT की विचारधारा और धरातलीय परिणामों से प्रेरित होकर इस गाँव की युवाशक्ति ने तमाम समस्याओं और विपरीत परिस्थितियों से नियमित जूझते हुए एक नयी क्रान्ति और सोच पैदा करने का बीड़ा उठाया है, जो इन नौजवानों की कर्मठता और जागरुकता का परिचायक है। यह युवा वर्ग अपने गाँव की समस्याओं को लेकर बेहद चिंतित है और उन सभी समस्याओं के समाधान हेतु नियमित रूप से प्रयासरत है। इसी के फलस्वरूप अपने गाँव की दिशा और दशा दोनों को बदलने के उद्देश्य से गाँव के कुछ युवा क्रान्तिकारियों ने *SBGBT* की कार्यप्रणाली और अवधारणा से प्रेरित होकर हाल ही में “सोच बदलो_परिता बदलो” का गठन किया है, जिसके जरिए इस टीम ने अपने गाँव में कई रचनात्मक कार्य किए हैं, जैसे:-

(1) गाँव के प्रत्येक खंबे पर स्ट्रीट लाइट लगाना।(2) गाँव के मुख्य रास्तों को अतिक्रमण मुक्त करके स्वच्छ और साफ रखना।(3)गाँव के कर्मचारी वर्ग को संगठित कर गाँव की उन्नति और खुशहाली के लिए सार्थक अवदान हेतु प्रेरित करना।*(4)जनसहभागिता के माध्यम से गाँव में बहुआयामी नवाचार स्थापित करना आदि कार्य प्रमुख हैं।

(4) “सोच बदलो_परिता बदलो” का मानना है कि सोच बदलो गांव बदलो टीम के आगमन के बाद उनका उत्साह, उमंग और उल्लास दुगना हो गया है| गांव के युवाओं ने विश्वास दिलाया की करौली जिले के आसपास के गांव में हो सोच बदलो गांव बदलो मुहिम को आगे लेकर जाएंगे| युवाओं ने टीम को विश्वास बताया है कि गांव में बहुत से काम प्रस्तावित है जैसे:-

(1) गांव में व्याप्त व्यसन और नशा खोरी जैसी बुराइयों को समाप्त करना।(2) गांव में नियमित रूप से स्वच्छता अभियान चलाकर साफ-सफाई बनाए करना।(3) घरों से निकलकर मुख्य सडकों पर व्यर्थ में बहने वाले पानी को पूर्णतः बंद करना, साथ ही गाँव को स्वच्छ बनाने के लिए पानी को घरों के अंदर गड्डे खोदकर उसके उचित सरंक्षण की व्यवस्था करना।(4) बच्चों के लिए नि:शुल्क कोचिंग और पुस्तकालय की व्यवस्था करना।(5) गाँव को अतिक्रमण मुक्त करना।(6) गाँव में सार्वजनिक स्थानों व सड़कों पर स्ट्रीट लाइट का उचित प्रबंधन करना।(7) गाँव में ताश, जुआ जैसे खेलों पर प्रतिबंध लगाना तथा इसके साथ ही गाँव में प्रचलित समस्त कुरीतियों को खत्म करने के लिए हर संभव प्रयास करना।

(5) मीटिंग के दौरान *SBGBT* के सभी कार्यकर्ताओं ने अपने अनुभवों और ज्ञान के आधार पर गाँव वासियों को प्रेरित और प्रोत्साहित किया। साथ ही टीम के द्वारा अब तक किये गये सार्थक प्रयास और उनसे मिली उपलब्धियों के बारे में बखूबी से अवगत कराया।टीम के कार्यकर्ताओं ने गांव वालों को विश्वास दिलाया कि सकारात्मकता और बदलाव की इस मुहिम में हम आपके साथ कदम से कदम मिलाकर आगे चलने को तैयार हैं| टीम के साथियों ने इस प्रकार तुम बदलाव से उनके जीवन उनके परिवार और उनके गांव में हुए बदलावों के बारे में विस्तृत रूप से चर्चा की जिसका बहुत ही सकारात्मक प्रभाव गांव वालों के उत्साह में देखने को मिला| टीम के कार्यकर्ताओं ने गांव की युवा पीढ़ी को पूरे जोश और जुनून के साथ गांव के लिए कार्य करने हेतु प्रेरित किया|

SBGBT 28 वां पड़ाव परीता गॉव, करौली [दिनांक 28 अक्टूबर 2018]
(6) कार्यक्रम का समापन ग्रावासियों द्वारा *भगवान नृसिंह* को साक्षी मानकर, समस्त *कुरीतियों* को जड़ से खत्म करने और गाँव की उन्नति और विकास के लिए *तन-मन-धन* से सहयोग करने की *सपथ* लेकर किया गया। इस सुखद समापन के पश्चात गाँव के बुद्धिजीवी और प्रबुद्धजनों ने आशीर्वाद स्वरूप टीम को *धन्यवाद* ज्ञापित किया।

(7) SBGBT परीता गाँव के युवा और बुजुर्गों की कर्मठता एवं जज्बे को सलाम करती है। जिस तरह की एकता, सहिष्णुता, सद्भावना और समर्पण गाँव के लोगों में देखा गया, वह वाकई अनुपम और सराहनीय है। परीता गाँव का हर कार्यकर्ता अपने गाँव को उन्नति की राह पर ले जाने का दम रखता है, जिसमें बुजुर्गों का भरपूर सहयोग और आशीर्वाद भी शामिल है। अत: निश्चित ही, इनके प्रयास दूरगामी परिणाम लेकर आएंगे।_

(8) यात्रा के अंत में एक अद्भुत और अविश्वसनीय वाकया हुआ; जिसके बारे में सभी साथियों को बताना बेहद जरूरी समझते हैं:-
_जैसे ही टीम विदा होकर गाँव से बाहर निकली, तो गाँव के ही एक युवा ने हमारी गाडी को गाँव के मुहाने पर बने *रेस्टोरेन्ट* पर रोका। बेहद सुन्दर और शानदार रेस्टोरेन्ट के ठीक बगल में एक *शराब का ठेका* भी चिपका हुआ था। यह सारी धरोहर इस युवा की थी। जो व्यसनों से मुक्त बेहद गंभीर और प्रभावशाली व्यक्ति था। टीम के विचारों से इस युवा का ऐसा हृदय परिवर्तन हुआ, कि उसने टीम से बडे ही पश्चात्ताप और विनम्र भाव से पूरे होश-ओ-हवास में आश्वासन देकर कहा, कि मैं सालों से चल रहे इस ठेके को बंद करके यहाँ स्कूल खोलना चाहता हूँ। हालांकि हम अभी भी इस बात से पूर्णतः आश्वस्त नहीं है, फिर भी यह देखना ज़रूरी है, कि उस युवा ने स्वेच्छा से टीम को जो वचन दिया है, उसे वह कब तक पूरा करता है। वैसे ये पल बेहद आश्चर्यजनक और हर्षित करने वाले थे। अगर उस नौजवान ने अपने कहे अनुसार बात रख दी, तो यह टीम के लिए विशेष उपलब्धि साबित होगी।_

(9) SBGBT इस तरह की सोच रखने वाले हर उस व्यक्ति का सम्मान और प्रशंसा करती है, जो आगे आकर मानव हित में कार्य करना चाहता है। साथियों, सकारात्मकता और रचनात्मकता की इस वैचारिक मुहिम को, जन-जन तक पहुंचाना हमारा मूल उद्देश्य और कर्तव्य है। अत: आज जिस तरह लोग *SBGBT* को आशा और विश्वास की निगाहों से देख रहे हैं, तो हमारी भी ये नैतिक जिम्मेदारी बनती है, कि हम पूरी निष्ठा और समर्पण के साथ उनकी उम्मीदों पर खरा उतरने का हरसंभव प्रयास करें। निश्चित ही, आप सभी के अपार सहयोग और समर्पण से समाज परिष्करण और मानवहित में बहने वाली यह क्रांतिकारी पावन धारा इसी तरह प्रवाहित होती रहेगी। इसी आशा और विश्वास के साथ आप सभी सज्जनों का हृदय से अनंत आभार।_
*जय हिंद, जय SBGBT, जय परीता।*

Facebook Comments