आदिवासी तेरा शोषण

आदिवासी तेरा शोषण

~~~~~~~आदिवासी तेरा शोषण~~~~~~
जिस आरक्षण के वृक्ष तले तुमने छाया और फल खाया है
उसकी जड़ो मे दुश्मन ने तेजाब आज गिरवाया है!
जिसके पैरो को तुम पुजो वह सिर पर अब चढ आया है
वह स्वयं सामने नही आता,भीलो पे रंग चढाया है!
आदिवासी तेरा शोषण सदियो से होता आया है!!
——————————————————–
आदिवासी तुम राजा थे,अब रंको जैसा हाल किया
संस्कृति तुम्हारी नष्ट करी,इतिहास तुम्हारा जला दिया!
जौंक की तरह आदिवासी सदियो से तेरा खुन पिया
संभूक ऋषि को मरवाया,एकलव्य का अगुंठा काट दिया!
अब नया षणयन्त्र रचा मीना-मीणा मे भेद किया
फिर भी तुम इनको आदर दो,यह समझ नही आया है!
आदिवासी तेरा शोषण सदियो से होता आया है!!
——————————————————–
अब तो जागो सोने वालो नही काम चलेगा सोने से!
हल्दी क्या अपना रंग छोड़े क्या? लाख बार धोने से!!
समय चूक पछताओगे ,क्या होगा फिर रोने से!
आगे कैसे बढ पाओगे,यो दब-दब-दबके रहने से!!
मत दुध पिलाओ सर्पो को,इसलिये तुम्हे चेताया है!
आदिवासी तेरा शोषण सदियो से होता आया है!!
——————————————————–
तुम प्रकृति पुजक रहे सदा,अब दिशाहीन क्यो होते हो!
सदियो से गुलामी का बोझा क्यो अपने सिर पर ढोते हो!!
तुम मूलनिवासी भारत के,क्यो भुला दिया अपने बल को!
तुम नही अभी तक समझ सके,दुश्मन के कपट भरे छल को!!
अपने बल को तुम याद करे,दुश्मन को खुब छकाया है!
आदिवासी तेरा शोषण सदियो से होता आया है!!
——————————————————–
सिन्धु घाटा का इतिहास गवाह,तुम प्रेम सहित सब रहते थे!
था नही कही पर भेदभाव,ना जाति-पाति करते थे!!
प्रकृति उन्नत यहॉ रही सदा धन धान्य युक्त यह देश था!
पावन जल सिन्धु नदी का था,सौन्दर्य प्रकृति परिवेश था!!
वह क्षेत्र तुम्हारा अनुपम था,वहॉ झरने अविरल झरते थे!
तब नर तो क्या हिंसक पशु भी आदिवासी से डरते थे!!
कर स्वर्ग नरक का भेद देख,तुमको कमजोर बनाया है!
आदिवासी तेरा शोषण सदियो से होता आया है!!
——————————————————–
युरोप एशिया से आकर आर्यो ने पॉव जमाया है!
धन धान्य युक्त भारत देखा,फिर इनका जी ललचाया है!!
यहॉ जातिवाद को फैलाकर ऊच नीच का भेद किया!
मुखिया बन बैठे भारत के,मनुस्मृति का निर्माण किया!!
जिसने देखा नही वेदो को,वह चतुर्वेदी कहलाया है!
आदिवासी तेरा शोषण सदियो से होता आया है!!
——————————————————–
यहॉ वर्ण व्यवस्था लागू कर,हमको शुद्रो का नाम दिया!
खुद सबसे ऊचे बन बैठे,हमको नीचो का काम दिया!!
हमको ही दानव असुर कहा,हम सुरापान नही करते थे!
हम आन बान की रक्षा के हित,जीते थे और मरते थे!!
हमको शिक्षा से दुर रखा,नहू अक्षर का ज्ञान कराया है!
आदिवासी तेरा शोषण सदियो से होता आया है!!
———————————————————
चाहे युवा मौत भी घर मे हो,तुम घर पर इन्हे बुलाते है!
नही शौक कभी ये करते,देशी घी को खा जाते है!!
है नमक मिर्च कम सब्जी मे,ये मिर्च नमक करवाते है!
खा पीकर माल हमारा ये,फिर दान दक्षिणा पाते है!
खुद तो जमकर खाते है,घर घंटी मे भरकर ले जाते है!!
कितना पूजो चाहे दान करो,फिर भी देखो घुर्राया है!
आदिवासी तेरा शोषण सदियो से होता आया है!!
———————————————————
ये ही कोर्टो मे बैठे है,और समाचार पेपर इनके!
इलेक्ट्रिक,मिडिया,न्याय पालिका,टेलिविजन भी इनके!!
अारक्षण विरोधी स्वर्ण पार्टी,मिशन 72 भी इनके!
यहा सब मंदिर बने हमारे,लेकिन महंत बने इनके!!
अब योग्य हुए हम पढ लिखकर,इसलिये तो ये घबराया है!
आदिवासी तेरा शोषण सदियो से होता आया है!!
———————————————————
जब जागेगा आदिवासी, नही कर्महीन टिक पायेगा!
हुंकार भरेगा भूमि पुत्र,तब कौन सामने आयेगा!!
मीणा-मीना मे भेद किया,सब मिनटे मे मिट जायेगा!
इसलिये एकजुट हो जाओ,संघर्ष करो,संगठित रहो!!
सदियो से किया तेरा शोषण,सब ब्याज सहित चुक जायेगा!
आदिवासी तेरा शोषण,तब नही कोई कर पायेगा!!
आदीवासी तेरा शोषण,तब नही कोई कर पायेगा..!!
लेखक:- सचिव समता सैनिक दल
(नाम देने से मना किया है)

Facebook Comments